Unity Indias

Search
Close this search box.
[the_ad id='2538']
राष्ट्रीय

जयपुर जिला कांग्रेस अध्यक्ष मुस्लिम को बनाया जाए – सलाम जोहर

किसी भी नियुक्ति में मुसलमानों को उचित प्रतिनिधित्व नहीं दिए जाने से समाज में रोष।

जयपुर, उत्तर प्रदेश।

राज्य सरकार द्वारा मुख्य सियासी नियुक्तियां, जयपुर नगर निगम हैरिटेज मेयर सहित किसी भी सियासी नियुक्तियों में उचित प्रतिनिधित्व नहीं दिए जाने के कारण समाज में रोष व्याप्त है। वहीं समाज के लोगों का कहना है कि वह कांग्रेस पार्टी को 95% तक वोट देते आए हैं और इस बात को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी स्वीकारा है।
इस बीच मुस्लिम प्रोग्रेसिव फेडरेशन के कन्वीनर अब्दुल सलाम जोहर ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा एवं प्रदेश प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा से मांग की है कि कांग्रेस पार्टी के जयपुर शहर जिला अध्यक्ष पद पर किसी योग्य मुस्लिम को नियुक्ति दी जाए। यदि ऐसा नहीं हुआ तो मुस्लिम समाज में इसका संदेश अच्छा नहीं जाएगा, क्योंकि मुस्लिम समाज ही कांग्रेस का वोट बैंक है जो एकमुश्त 95% तक वोट देता आया है, बदले में कांग्रेस पार्टी ने समाज को कहीं किसी भी सियासी नियुक्ति या पार्टी का उचित पद नहीं दिया है। इससे पूर्व हैरिटेज नगर निगम में मेयर के लिए भी मुस्लिम समाज ने मांग की थी कि किसी योग्य मुस्लिम को मेयर बनाया जाए, उसे पूरी तरह नजरअंदाज किया गया। अब यदि जयपुर शहर जिला अध्यक्ष पद पर मुस्लिम व्यक्ति को अध्यक्ष नहीं बनाया गया तो इसका आने वाले विधानसभा चुनाव में विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। अतः समय रहते कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेश प्रभारी से आशा है कि वह इस संदर्भ में उचित कार्रवाई कर समाज के योग्य व्यक्ति को जयपुर शहर जिला अध्यक्ष बनाएंगे।

जोधपुर व कोटा में भी बनाए हैं दो अध्यक्ष

उल्लेखनीय है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने जोधपुर व कोटा नगर निगम बनाए जाने के बाद हाल ही इन दोनों जगह पर दो जिला अध्यक्ष बनाए गए हैं। जब जोधपुर और कोटा में दो जिलाध्यक्ष बनाए जा सकते हैं तो जयपुर जो कि राजस्थान की राजधानी है वहां दो जिलाध्यक्ष क्यों नहीं बनाए जा सकते। इस संदर्भ में मुस्लिम प्रोगेसिव फेडरेशन के कन्वीनर अब्दुल सलाम जोहर ने पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा व प्रदेश प्रदेश सुखजिंदर सिंह रंधावा से अनुरोध किया है कि राजधानी को नजरअंदाज नहीं करते हुए यहां भी दो जिलाध्यक्ष बनाए जाए।

100 में से 35 पार्षद होने के बावजूद किया जा रहा है नजरअंदाज।
जयपुर नगर निगम हैरिटेज में कुल 100 पार्षद चुनकर आए हैं। इनमें से 35 पार्षद मुस्लिम होने के बावजूद समाज का ना मेयर मिला और ना अब जयपुर शहर जिला अध्यक्ष पद दिया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी मुस्लिम समाज के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है, जिसके चलते समाज में रोष व्याप्त है।

Related posts

जनसुनवाई कार्यक्रम संग संपन्न हुई,सामाजिक अंकेक्षण की प्रक्रिया,ग्राम सभा की खुली बैठक बुला कर जनसुनवाई करती सोशल ऑडिट टीम

Abhishek Tripathi

जानिए Damandeep Singh ने कैसे डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा होने के बावजूद सफलता हासिल की

Abhishek Tripathi

भूकंप के झटके किए गए महसूस,लोग घरों से निकले बाहर – पढ़े पूरी खबर

Abhishek Tripathi

Leave a Comment