Unity Indias

Search
Close this search box.
महाराजगंज

शब-ए-बरात की रात रुद्रापुर में मुस्लिम समुदाय के लोगो ने की इबादत

सिसव ब्लॉक के अंतर्गत ग्रामसभा रुद्रापुर मे मुस्लिम समुदाय के लोगो ने उल्लास के साथ शब ए बरात मनाया और घर पर रहकर अल्लाह की इबादत

शब-ए-बारात के त्यौहार के दिन पड़ने वाली रात की इस्लाम में काफी अहमियत है. शब-ए-बारात मुसलमान समुदाय के लिए इबादत,फजीलत, रहमत और मगफिरत की रात मानी जाती है. इसीलिए तमाम मुस्लिम समुदाय के लोग इस रात नमाज और क़ुरआन पढ़ते हैं और अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगते हैं.

शब-ए-बारात की इस्लाम में अहमियत-फजीलत शब-ए-बरात इबादत और मगफिरत की रात है

मुस्लिम समुदाय के तमाम त्योहारों में से एक त्योहार शब-ए-बरात है। इस्लाम में इस त्योहार की काफी अहमियत है।

शब-ए-बारात के त्यौहार के दिन पड़ने वाली रात की काफी अहमियत है। शब-ए-बारात मुसलमान समुदाय के लिए इबादत,फजीलत, रहमत और मगफिरत की रात मानी जाती है. इसीलिए तमाम मुस्लिम समुदाय के लोग रात भर इबादत करते हैं और अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगते हैं.

रुद्रापुर ग्रामसभा के इमाम हाफिज़ अब्दुस्सलाम निज़ामी ने बताया कि आमतौर पर लोग शब-ए-बरात कहते हैं, लेकिन सही मायने में इसे शब-ए-बराअत कहा जाना चाहिए. इनमें पहला शब्द ‘शब’ का मायने रात है, दूसरा बराअत है जो दो शब्दों से मिलकर बना है, यहां ‘बरा’ का मतलब बरी किए जाने से है और ‘अत’ का अता किए जाने से, यानी यह (जहन्नुम से) बरी किए जाने या छुटकारे की रात होती है।इस मौके पर ग्राम प्रधान पति व मौलाना अब्बास नूरी, डॉ जावेद अख्तर, हाफिज़ शइद अंसारी, मो.शमीम, हाफ़िज़ इब्राहिम, हाजी रियासत अली,मास्टर निज़्मुद्दी, मास्टर क़मरुद्दीन अंसारी, आफताब, यसुफ़, दूरदराज से आये मौलाना क़मरुद्दीन के साथ तमाम लोग मौजूद रहे।

Related posts

दो सगी बहनों का पोखरे मे डूबने से मौत घर परिवार में मचा कोहराम

Abhishek Tripathi

पुरानी पेंशन योजना की बहाली को लेकर समस्त राज्य कर्मचारी व शिक्षकों ने किया मौन धरना प्रदर्शन

Abhishek Tripathi

प्राथमिक विद्यालय के बच्चों ने किया कमाल बनाया कागज़ के टुकड़ों व दफ़्ती से स्कूल

Abhishek Tripathi

Leave a Comment