Unity Indias

Search
Close this search box.
महाराजगंज

सात साल के उम्र में अरशद ने रखा माहे रमज़ान का रोज़ा

माहे रमज़ान के रोज़े की है बहुत सी फ़ज़ीलतें।


सिसवा ब्लॉक के अंतर्गत ग्रामसभा कुइया के रहने वाला अरशद रज़ा पुत्र नैमुल्लाह ने सात साल के उम्र में माहे रमज़ान का रोज़ा रखा अपने उम्र के साथ साथ अपनी हिम्मत बढ़ाने में लगा है अरशद ने बताया कि मैं माहे रमज़ान का पूरे 30 रोज़े कंप्लीट रखूंगा इंशा अल्लाह । आप को बताते चले । रमजान के महीने में अल्लाह की खास रहमतें बरसती हैं. अगर इस्लाम समुदाय का व्यक्ति रमजान के नियमों का पालन करता है तो अल्लाह उसके पिछले सभी गुनाह माफ कर देते हैं. साथ ही, इस महीने में की गई इबादत और अच्छे काम का 70 गुना पुण्य अल्लाह देता है। इस्लाम धर्म में हर बालिग पर रोजा फर्ज होता है । अरशद रज़ा के अम्मी अब्बू व भाई अरशद रज़ा पर खुशी इज़हार करते हुए उन लोगो ने कहा कि अरशद की तरह सब बच्चों को ख़ुदा हिम्मत दे। आमीन

Related posts

नेपाल बॉर्डर से सटे भारतीय सीमा के चौकी के सामने प्रतिबंधित समानों की धड़ल्ले से हो रहीं तस्करी, गाड़ियों को जांच करना उचित नहीं समझती पुलिस ?

Abhishek Tripathi

साइबर जागरुकता अभियान के तहत साइबर अपराध के प्रति आम जनमानस को पुलिस ने किया जागरुक

Abhishek Tripathi

शिविर के दूसरे दिन विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन

Abhishek Tripathi

Leave a Comment