Unity Indias

Search
Close this search box.
Uncategorized

सहरी करना पैग़ंबरे इस्लाम की सुन्नत – हाफिज रहमत



गोरखपुर, उत्तर प्रदेश।

सब्जपोश हाउस मस्जिद जाफरा बाजार के इमाम हाफिज रहमत अली निजामी ने बताया कि अल्लाह का एहसान कि उसने हमें रोजे जैसी अज़ीम नेमत अता की। सहरी की न सिर्फ इजाजत दी, बल्कि इसमें हमारे लिए ढे़रों सवाब भी रखा। सहरी में बरकत है। फज्र की अजान के दौरान खाने पीने की इजाजत नहीं है। अजान हो या न हो, आप तक आवाज पहुंचे या न पहुंचे सुबह सादिक होते ही आपको खाना-पीना बिल्कुल ही बंद करना होगा। किसी को ये गलतफहमी न हो जाए कि सहरी रोजे के लिए शर्त है। ऐसा नहीं है। सहरी के बगैर भी रोजा हो सकता है। मगर जानबूझकर सहरी न करना ठीक नहीं है। एक अजीम सुन्नत से महरूमी है और ये भी याद रहे कि सहरी में खूब डटकर खाना भी जरूरी नहीं हैं। चंद खजूरें और पानी ही अगर ब नियते सहरी इस्तेमाल कर लें तब भी सुन्नत अदा हो जाएगी।
————————–

Related posts

अतीक अहमद और उसके भाई को पत्रकार बन आए दो युवक ने मारी गोली

Abhishek Tripathi

वोटर चेतना महाभियान के तहत देहात मंडल के कार्यकर्ताओं के साथ कार्यशाला का हुआ आयोजन

Abhishek Tripathi

बेसिक शिक्षा परिषद की 69 हजार शिक्षक भर्ती-2018 में बड़े पैमाने पर आरक्षण का घोटाला हुआ- आफताब अहमद

Abhishek Tripathi

Leave a Comment