Unity Indias

Search
Close this search box.
गोरखपुर

इंडियन ह्यूमन राइट्स ऑर्गनाइजेशन ने नवरात्र पर फल अहारी वितरित की।

सर्वोच्च मानवता वही है जो एक धागे में सभी वर्गों को पिरोय रखे – डॉ. सत्या पांडेय

गोरखपुर, उत्तर प्रदेश।

इंडियन ह्यूमन राइट्स ऑर्गनिजेशन के तत्वाधान में आज प्रातः 9:30
से स्थान काली मंन्दिर गोलघर ,गोरखपुर में नवरात्रि के अवसर पर फल अहारी वितरण कार्यक्रम किया गया। शहर के विभिन्न स्थानों से आये श्रद्धालुओं को फल अहारी वितरण किया गया।इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय अध्यक्ष मो रज़ी एवं महासचिव शहाब हुसैन, विशिष्ट अतिथि पुष्पदंत जैन (उपाध्यक्ष ,उत्तर प्रदेश व्यपार मण्डल)दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री, सरदार जसपाल सिंह(अध्यक्ष गुरुद्वारा ,जटाशंकर) अशोक मल्होत्रा (उपाध्यक्ष, खत्री महासभा) सुभाष दुबे जी (राष्ट्रीय संरक्षक ,इंडियन ह्यूमन राइट्स) शिवेंद्र पाण्डेय (राष्ट्रीय प्रवक्ता ) विनोद कुमार श्रीवास्तव (प्रदेश प्रवक्ता) श्रीमती सत्या पाण्डेय पूर्व महापौर ,इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष सेराज अहमद क़ुरैशी रहे। राज्यमंत्री पी डी जैन ने अपने सम्बोधन में बताया कि यह संगठन पिछले कई दशकों से इस रामनवमीं पर्व पर फल अहारी वितरण कार्यक्रम आयोजित करता आ रहा है । पूर्व महापौर सत्या पाण्डेय ने बताया कि सर्वोच्च मानवता वही है जो एक धागे में सभी वर्गों को पिरोय रखे। इंडियन ह्यूमन राइट्स संगठन सभी धर्मों के पर्वो पर आपसी सौहार्द के साथ अनेक कार्यक्रमो को करता रहता है।राष्ट्रीय संरक्षक सुभाष दुबे ने बताया की ऐसा कहते हैं कि भगवान राम का धरती पर जन्म इसी दिन हुआ था. भक्तों के दुख दूर करने और दुष्टों का अंत करने के लिए श्रीराम त्रेता युग में इसी दिन पैदा हुए थे। वासंतिक नवरात्र के नौवें दिन उनका जन्म हुआ था. श्रीराम मध्य दोपहर में कर्क लग्न और पुनर्वसु नक्षत्र में पैदा हुए थे. भगवान राम के जन्म की इस तारीख का जिक्र रामायण और रामचरित मानस जैसे तमाम धर्मग्रंथों में किया गया है। श्री राम स्वयं भगवान विष्णु का सातवां अवतार थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष मो. रजी ने इस पर्व पर आए सभी श्रद्धालुओं एवं अतिथियों पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया। जिसने इस कार्यक्रम में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया।महासचिव शहाब हुसैन ने अपने संबोधन में मानवाधिकार के बारे में बताया कि ”यह एक ऐसा अधिकार है, वास्तव में जिससे प्रत्येक व्यक्ति, मानव तथा सभी लोगों को वंचित नहीं रखा जा सकता है क्योंकि संपूर्ण मानव जाति भाग लेने, सहयोग देने तथा आर्थिक, सामाजिक सांस्कृतिक एवं राजनीतिक विकास की हकदार है। प्रत्येक का इसमें अधिकार बनता है।मानवाधिकार वे अधिकार हैं जो किसी भी व्यक्ति को जन्म के साथ ही मिल जाते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो किसी भी व्यक्ति के जीवन, स्वतंत्रता, समानता और प्रतिष्ठा का अधिकार ही मानव अधिकार है।महानगर अध्यक्ष अनिल जायसवाल ने इस कार्यक्रम में आये सभी अतिथियों एवं इंडियन ह्यूमन राइट्स संगठन के सभी पदाधिकारियों अशोक मिश्रा, संजय श्रीवास्तव, हरीश मिश्रा,फिरदौस अहमद खान,डॉक्टर तबरेज़ सिद्दीकी, डॉक्टर राशिद हुसैन,बदरुल हक,एडवोकेट सुशील शर्मा,एडवोकेट अनिल पाण्डेय, महानगर मंत्री करार मिर्जा, आलोक मिश्रा ,बबलू ,राजू शर्मा,बाँकेटश्वर राय,भोला,मनोज यादव,मीडिया सेल से ओमप्रकाश यादव ,फैसल हुसैन आदि को धन्यवाद एवं आभार व्यक्त किया।

Related posts

इंडियन ह्यूमन राइट्स आर्गेनाइजेशन के कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ला को माल्यार्पण कर अभिनंदन किया। 

Abhishek Tripathi

उर्दू भाषा ने क्षेत्र, सीमा, वर्ण, जाति एवं धर्म से ऊपर उठ कर राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा दिया – डॉ. सौरभ पांडेय 

Abhishek Tripathi

इमाम हुसैन की कुर्बानी को कभी नहीं भुलाया जा सकता – उलमा किराम

Abhishek Tripathi

Leave a Comment