Unity Indias

Search
Close this search box.
मध्यप्रदेश

स्वदेश संस्था व महिला एवं बाल विकास के संयुक्त तत्वावधान में। 

सेरसा में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ विशेष ग्रामसभा आयोजित। 

बेटा-बेटी में भेदभाव करने वालों का सामाजिक बहिष्कार हो- सुमन कंजर सरपंच

बेटियों की संख्या में गिरावट समाज का आईना- रामजीशरण राय

दतिया, मध्यप्रदेश।

समाज मे व्याप्त कुरीतियों, रूढ़ियों और भेदभावपूर्ण मानसिकता के चलते विभिन्न स्तरों पर जैंडर भेद को समाप्त करने व बेटियों और महिलाओं को संरक्षण के अधिकार व समुचित विकास के अवसर व सुरक्षित वातावरण मुहैया कराने के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत अरविंद उपाध्याय जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग व स्वदेश ग्रामोत्थान समिति (नवांकुर संस्था) दतिया के संयुक्त तत्वावधान में चयनित विशेष ग्रामसभाओं का आयोजन सतत रूप से किया जा रहा है।

ग्राम सेरसा में आयोजित विशेष ग्रामसभा में विभाग व संस्था के संयुक्त रूप गठित आयोजक दल द्वारा समुदाय को बेटियों के महत्व एवं उनके सामाजिक विकास, लिंगानुपात संतुलन में योगदान के बारे में जानकारी दी जारही है।

आयोजित विशेष ग्रामसभा में बेटा-बेटी में भेदभाव करने वालों का सामाजिक बहिष्कार हो उक्त उद्गार श्रीमती सुमन कंजर सरपंच ग्राम पंचायत सेरसा ने व्यक्त किए। सामाजिक कार्यकर्ता व स्वदेश नवांकुर संस्था संचालक रामजीशरण राय ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि बेटियों की संख्या में गिरावट समाज का आईना है, बेटियों व महिलाओं के प्रति भेदभाव उचित नहीं है। पॉक्सो व किशोर न्याय अधिनियम, बाल विवाह प्रतिषेध व बाल एवं कुमार श्रम प्रतिषेध अधिनियम की प्रभावी जानकारी दी।

अभियान के अंतर्गत महिला-पुरुष समानता, समता, उनके प्रति सुरक्षा और संरक्षण का वातावरण में निर्मित हो सके। इस हेतु विशेष ग्रामसभा व नारी चौपाल की गतिविधियों के आयोजन किए जारहे हैं जिनमें बेटियों के प्रति होने वाले विभिन्न स्तरों पर भेदभाव को रोकने का वातावरण तैयार किया जा रहा है।

अभियान के अंर्तगत बलवीर पाँचाल सचिव प्रस्फुटन समिति सेंमई, कु. रुचि गुप्ता सचिव प्रस्फुटन समिति सेरसा ने शासकीय जन कल्याणकारी योजनाओं लाड़ली लक्ष्मी योजना, मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना, मातृ वंदना, सामूहिक विवाह योजना आदि की व्यापक जानकारी दी जरही है।

अभियान के अंतर्गत ग्रामसभाओं में ग्रामीण महिला-पुरुष के साथ ही आयोजक दल अभियान प्रभारी अशोक कुमार शाक्य व पीयूष राय ने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में जितेंद परिहार, मोहनी परिहार, अभय दाँगी, प्रस्फुटन समिति के आयुष राय, शिवम बघेल, नरेंद्र कुशवाहा, शिवा राय, उदय दाँगी, सुनीता, सुमन, देवकी, रीमा, रेनू गुप्ता आदि व विभागीय प्रतिनिधि हेमंत नामदेव, यशदीप राजपूत सहित ग्रामीण महिला पुरुष में प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

उक्त जानकारी स्वदेश नवांकुर संस्था श्रीमती प्रीति शिवहरे ने देते हुए बताया कि अभियान के तहत जिले के तीनों विकासखण्ड के चयनित ग्रामों में ग्रामसभाओं व नारी चौपाल के आयोजनों की श्रृंखला जारी रहेगी ताकि लिंग चयन आधारित भेदभाव के विरुद्ध वातावरण निर्मित हो सके। आयोजन के अंत में सरपंच श्रीमती कंजर व सचिव श्री गुर्जर ने उपस्थित प्रतिभागियों को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की सामूहिक शपथ दिलाई गई।

Related posts

डॉ. भीमराव अंबेडकर की 132 वीं जन्मजयंती के अवसर पर। 

Abhishek Tripathi

दतिया की लाडली निकेता बहिन ने शिवजी को बनाया जीवनसाथी। 

Abhishek Tripathi

ग्राम परासरी में लाडली बहना योजना की रंगोली फूलों से बनाकर महिलाओं को जागरूक किया। 

Abhishek Tripathi

Leave a Comment