Unity Indias

Search
Close this search box.
[the_ad id='2538']
गोरखपुर

722 दिनों से प्रचलित सत्याग्रह संकल्प से बेखबर सरकार।

सेराज अहमद कुरैशी

गोरखपुर, उत्तर प्रदेश।

लोक निर्माण विभाग गोरखपुर में सीएजी रिपोर्ट आधारित निरंकुश भ्रष्टाचार के विरुद्ध विगत 2 सालों से प्रचलित सत्याग्रह संकल्प और सरकार की भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति परस्पर विरोधाभासी नजर आ रहे हैं।
आज यह बरबस सोचना पड़ रहा है कि आखिर सीएजी रिपोर्ट आधारित भ्रष्टाचार क्या निराधार है?
या भ्रष्टाचार पर सरकार की जीरो टॉलरेंस की नीति दिवास्वप्न है। सत्याग्रहियोँ का संकल्प इस बात का जबरदस्त इशारा करता है कि भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति कथित व मात्र छलावा है।
अब यह कहने से गुरेज नहीं किया जा सकता कि वर्तमान सरकार और सरकार के कारिंदे निरंकुश भ्रष्टाचार में बराबर के सहभागी हैं अन्यथा आमजन की गाढ़ी कमाई भ्रष्टाचार की बेदी पर नहीं चढ़ती। उपरोक्त बातें संगठन के संस्थापक/महासचिव शैलेंद्र कुमार मिश्र से वार्ता के दौरान उजागर हुआ कि तीसरी आंख मानव अधिकार संगठन द्वारा भ्रष्टाचार के विरुद्ध चलाए जा रहे चरणबद्ध सत्याग्रह संकल्प अभियान के द्वितीय चरण में मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग में निरंकुश व्याप्त भ्रष्टाचार के विरुद्ध मुख्य अभियंता कार्यालय लोक निर्माण विभाग गोरखपुर पर प्रचलित सत्याग्रह संकल्प के 722 वें दिन भी व्यवस्था के पोषक बेखबर हैं।

Related posts

पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने के लिए पत्रकारों ने भरी हुंकार – ध्रुव कुमार मिश्र

Abhishek Tripathi

पूरी शान से इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन कार्यालय पर लहराया तिरंगा गूंजता रहा वंदे मातरम व जय हिंद का नारा

Abhishek Tripathi

इंडियन ह्यूमन राइट्स आर्गेनाइजेशन ने रोजेदारों को बांटा इफ़्तार किट। 

Abhishek Tripathi

Leave a Comment