Unity Indias

Search
Close this search box.
[the_ad id='2538']
Uncategorized

क्रांति दिवस के अवसर पर पूर्वांचल किसान यूनियन का गठन

क्रांति दिवस के अवसर पर पूर्वांचल किसान यूनियन का गठन देश की आजादी के बाद गांव और शहर के बीच अंतर बढ़ता गया पिछले दो दशक में गांव से शहर की तरफ लायन बड़ा और किसानों को लगातार हर क्षेत्र में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा आज देश के अंदर गांव का व्यक्ति जिसकी आजीविका मूलत आकृति पर आधारित है दूसरे नंबर का नागरिक बन गया है गांव और किसानों की उपेक्षा के कारण आज किसान नारकीय जीवन जीने को मजबूर है धर्म और जाति की राजनीति ने भी गांव गरीब और किसान हित को छत पहुंचाया है किसी के विद्वान पाच ने कहा था उत्तम खेती मध्यम बान निश्चित धाकड़ी भीख निदान आज कृषि सबसे निकृष्ट पैसा हो गई है सरकारों की गलत नीतियों के कारण किसान पूजी पतियों के शोषण का शिकार तो हो ही रहा है आज भ्रष्टाचार की मार का सामना ब्लॉक थाना और तहसील से उसे ही जाना पड़ रहा है साथ ही साथ ही जगहों पर उसे अपमान का घूंट पीना पड़ रहा है इसी के मद्देनजर रखते हुए पूर्व सांसद महाराजगंज कुंवर अखिलेश सिंह ने क्रांति दिवस के अवसर पर पूर्वांचल किसान यूनियन का गठन किया जिनमें निम्नलिखित मांगों को प्रस्तावित किया गया है नंबर वन स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट के अनुसार कृषि उत्पादों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया जाए नंबर दो चीनी को लगातार बढ़ते दाम के अनुपात में गन्ने का मूल्य बढ़ाया जाए नंबर 3 यूपी शुगर रेगुलेशन एक्ट को लागू करके किसानों के बकाया गन्ना मूल्य पर ब्याज सहित भुगतान कराया जाए नंबर 4 किसानों की जमीनों की सरकारी कार्य हेतु अधिग्रहण कराया जा रहा है उनका मुआवजा संसद में पारित कानून के मुताबिक दिया जाए नंबर 6 गांव के शेरों के बराबर बिजली दी जाए नंबर 7 ग्रामीण स्तर पर चिकित्सा की सुविधा शेरों की समान किया जाए नंबर 8 पूर्वी उत्तर प्रदेश के किसानों के उपज को बेचने के लिए बाजार उपलब्ध कराया जाए नंबर 9 मत्स्य पालन के क्षेत्र में पूर्वांचल में किसानों को पर्याप्त सब्सिडी देकर नई तकनीक के अनुसार मध्य पालन को बढ़ाया दिया जाए नंबर 10 सामाजिक वानकी के क्षेत्र में टिश्यू कल्चर के सागवान के पौधे उपलब्ध करके उसे किसानों में मुफ्त वितरित किया जाए नंबर 11 मुर्गी पालन और बकरी पालन में 50% की सब्सिडी उपलब्ध कराकर बेरोजगार नौजवानों को रोजगार उपलब्ध कराया जाए नंबर 12 आवारा पशुओं और नीलगाईयों से किसानों की फसल को बचाने के लिए कारगर उपाय किया जाए नंबर 13 सरकारी थानों और तहसीलों में किसानों के साथ सम्मानजनक व्यवहार करने का निर्देश दे जो अधिकारी या कर्मचारी किसानों को वनीत करने का कार्य करता है उसके विरुद्ध दंडात्मक कार्रवाई की जाए नंबर 14 फसल बीमा योजना को व्यवहारिक प्रदान की जाए यदि किसान की 50% की फसल बर्बाद होती है तो फसल बीमा योजना के अंदर मुआवजा दिया जाए नंबर 15 गंडक नहर प्रणाली में तारों की नई शाखाएं निकाल कर कृषि क्षेत्र की सिंचन क्षमता को बढ़ाया जाए नंबर 16 ग्रामीण क्षेत्र की समस्या सड़कों को प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के मानक के अनुरूप बनाया जाए नंबर 17 पूर्वांचल में महाराजगंज जनपद हरियाणा और पंजाब के औसत के बराबर धन और गेहूं का उत्पादन करता है गाने का उत्पादन भी पूर्वांचल सर्वाधिक करता है महाराजगंज जनपद में कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना की जाए नंबर 18 महाराजगंज की बंद करोड़ गूगल फरेंदा चीनी मिलों को चलाया जाए नंबर 19 महाराजगंज जनपद का बड़ा भूभाग जंगलों से गिरा हुआ है जंगली जानवर फसलों को बर्बाद कर रहे हैं संपूर्ण जंगल के क्षेत्र की सीमाओं को टर बर से गिर जाए नंबर 20 दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए पांच गए अथवा पांच भैंस को एक यूनिट मानकर 50% का अनुदान उपलब्ध कराया जाए साथ ही वार्मिक पोस्ट को बढ़ावा देने हेतु अनुदान उपलब्ध कराया जाए नंबर 21 महाराजगंज जनपद में किसानों के पावल और गाने के पत्तों की बड़ी मात्रा नुकसान हो जाता है महाराजगंज में कागज की फैक्ट्री लगाई जाए निम्नलिखित में इस मसौदे में उल्लेख है

Related posts

29 मई को गोरखपुर, उ. प्र. में आयोजित इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन का अंतर्राष्ट्रीय पत्रकार सम्मान, संगोष्ठी व महाधिवेशन – नरेंद्र कुमार सिंह

Abhishek Tripathi

सिनेमा जगत की नई पहल 26 मार्च को फ्री मेडिकल चिकित्सा का आयोजन

Abhishek Tripathi

दो वर्षीय मासूम खेलते समय हुआ था गायब मिला शव जाँच में जुटी पुलिस*

Abhishek Tripathi

Leave a Comment