Unity Indias

Search
Close this search box.
[the_ad id='2538']
महाराजगंज

रमजान का महीना क्यों मनाया जाता है

*डॉ जावेद अख्तर*

 

*माहे रमज़ान की फ़ज़िलत*

 

इस्लाम धर्म में रमजान के महीने का महत्व बताते हुए कहा गया है, इस महीने की गई इबादत से अल्लाह खुश होता और रोजा रखकर मांगी गई हर दुआ कुबूल होती है. ऐसी मान्यता है कि अन्य दिनों के मुकाबले रमजान में की गयी। इबादत का फल 70 गुना से ज़्यादा होता है। रमजान का रोजा 29 या 30 दिनों का होता है।

 

*रमजान के महीने की फजीलत*

अल्लाह तआला फरमाता है कि रोजेदार अपना खाना पीना और अपनी ख्वाहिश, मेरे लिए छोड़ देता है और रोजा मेरे ही लिए रखता है। मैं इसका बदला दूंगा और हर नेकी का सवाब 70 गुना मिलता है, लेकिन रोजे का सवाब इससे कहीं ज्यादा मिलेगा।

 

 

*रमजान कितने दिन का होता है*

रमजान का रोजा 29 या 30 दिनों का होता है। इस्लाम धर्म के मुताबिक़ बताया गया है कि रमजान के दौरान रोजा रखने से अल्लाह खुश होता है। और सभी दुआएं कुबूल करता है।

 

*रमजान का महीना क्यों मनाया जाता है*

माहे रमजान को नेकियों का मौसम कहा जाता है। इस महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग अल्लाह की इबादत (उपासना) ज्यादा करता है। अपने अल्लाह को खुश करने के लिए रोज़ा (उपासना) के साथ कुरआन ए पाक का तिलावत व दान धर्म करता है। यह महीना समाज के गरीब और जरूरत मंद बंदों के साथ हमदर्दी का है।

 

*मुसलमान रमजान का रोजा क्यों रखते हैं*

मुसलमानों का मानना है कि इसी महीने के दौरान इस्लाम की पवित्र किताब कुरान की पहली आयतें पैगंबर मुहम्मद साहब को बताई गई थीं। इस अवधि के दौरान, मुसलमानों को उपवास करने और दान देने, दया और धैर्य दिखाने और अल्लाह के साथ अपने रिश्ते को मजबूत करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

 

 

*रमजान के महीने में क्या नहीं करना चाहिए*

रमजान महीने में जो लोग रोजा रखते हैं, उन्हें सूरज डूबने के बाद होने वाली मगरिब अजान से पहले कुछ भी खाने या पीने की मना होती है।

रोजे के दौरान सिगरेट पीना व जबरन उल्टी करने की मना होती है। …

रमजान के पाक महीने में किसी के लिए द्वेष भावना रखने की मना ही होती है।

 

*रोजा रखने से कौन सी बीमारी दूर होती है*

रोजा रखने से पित्त और लीवर की बीमारी दूर होती है। रोजे से दूर होती हैं बीमारियाँ

 

मुस्लिम समुदाय के लोगो का मानना है कि इस्लामी पवित्र कुरान के बारे में बताया। लैलतूल क़दर – या “शक्ति की रात” – माना जाता है कि वह रमज़ान के दौरान हुआ था। कुरान के रहस्योद्घाटन को मनाने के तरीके के रूप में मुसलमान उस महीने के दौरान उपवास करते हैं।

 

इस्लामी संस्कृति में रमज़ान सबसे पवित्र महीना क्यों है?

 

रमजान का माना क्या है?

रमज़ान या रमदान (उर्दू – अरबी – फ़ारसी : رمضان) इस्लामी कैलेण्डर का नवां महीना होता है. मुस्लिम समुदाय इस महीने को परम पवित्र मानते हैं . रमजान शब्द अरब से निकला है. अर्थात यह एक अरबिक शब्द है जिसका अर्थ है कि “चिलचिलाती गर्मी तथा सूखापन

Related posts

बडे़ ही धूमधाम के साथ मनाई गई महर्षि कश्यप की जयंती

Abhishek Tripathi

विशिष्ट बी टी सी शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ग्रुप द्वारा राधाकृष्णन हाल में मंडलीय शिक्षा सम्मान समारोह का आयोजन किया

Abhishek Tripathi

बेटियों व महिलाओं को विकास के समुचित अवसर देने जरूरी- रामजीशरण राय

Abhishek Tripathi

Leave a Comment